दिल्ली-एनसीआर में किराये पर घर लेने के लिए ये जगह हैं बेस्ट


दिल्ली-एनसीआर में किराये पर रहने की बेस्ट जगह कौन सी हैं और किरायेदारों को किस बात का ध्यान रखना चाहिए, आइए आपको बताते हैं।
दिल्ली-एनसीआर में किराया बाजार हमेशा से मजबूत रहा है, खासकर बाहरी इलाकों में। सरकार की नोटबंदी से भले ही रियल एस्टेट मार्केट पर असर पड़ा हो, लेकिन किराया मार्केट की रफ्तार में तेजी आई है। किसी सही नतीजे पर पहुंचने से पहले लोगों को किराये के घर के सकारात्मक और नकारात्मक पहलुओं के बारे में मालूम जरूर कर लेना चाहिए। घर किराये पर लेते समय उसमें रहने के फायदों के अलावा किराया राशि पर विचार करना बेहद जरूरी है।

गुरुग्राम:

गुरुग्राम और खासकर इसके नए इलाके हमेशा से प्रस्तावित किरायेदारों की पसंद रहे हैं। मेट्रो के कारण इस मिलेनयम सिटी में लोगों के लिए ट्रैवल करना बेहद आसान हो गया है। एंडी होम की डायरेक्टर गीतांजलि आनंद ने कहा, गोल्फ कोर्स एक्सटेंशन और सेक्टर 47, 50, 55 व 56 सोशल इन्फ्रास्ट्रक्चर, कमर्शियल हब्स, हेल्थकेयर सेंटर्स, एजुकेशन इंस्टिट्यूट्स और मेट्रो होने के कारण किराये पर लेने के लिए काफी अच्छी जगह हैं।

फरीदाबाद:

एक अन्य किराया बाजार फरीदाबाद है, जिसे अब उसकी कीमत मिल रही है। प्रॉपर्टी खरीदने के लिए यह भारत का बड़ा केंद्र बन गया है। अॉक्युपेंसी लेवल बेहतर होने के कारण फरीदाबाद घर किराये पर लेने के लिेए बेहतर विकल्प है। इस इलाके की नोएडा, गुरुग्राम और दिल्ली से शानदार कनेक्टिविटी है। मेट्रो इस सैटलाइट शहर को दिल्ली और नोएडा से जोड़ती है। इसके अलावा गुरुग्राम-फरीदाबाद एक्सप्रेसवे भी लोगों की यात्रा सुगम बनाता है।

दिल्ली:

अगर आप दिल्ली में किराये पर घर लेने की सोच रहे हैं तो द्वारका बेहतरीन विकल्प है। यह दिल्ली मेट्रो से जुड़ा हुआ है और गुरुग्राम व एयरपोर्ट से भी करीब है। आनंद के मुताबिक, ”दिल्ली-एनसीआर में रहने की सर्वश्रेष्ठ जगह हैं साकेत, वसंत कुंज, लाजपत नगर, साउथ में फ्रीडम फाइटर एन्क्लेव, पालम विहार और पश्चिम में द्वारका और ईस्ट में मयूर विहार फेज 1”।
पीआर ग्रिड और पीआर असोसिएट्स के जितेंद्र परमार के मुताबिक वेस्ट दिल्ली में लोग राजौरी गार्डन, पंजाबी बाग, ईस्ट पटेल नगर, जनकपुरी बी, सी ब्लॉक और कृष्णा पार्क को तरजीह दे रहे हैं। परमार ने कहा, साउथ दिल्ली में किराये पर रहने के लिए कटवारिया सराय, मुनिरका, वसंत विहार, आनंद लोक, लाजपत नगर III और IV अच्छी जगह हैं क्योंकि इन इलाकों की दिल्ली के बाकी हिस्सों से कनेक्टिविटी अच्छी है। ईस्ट दिल्ली में प्रीत विहार, विवेक विहार, कड़कड़डूमा व नॉर्थ दिल्ली में राजधानी एन्क्लेव, मॉडल टाउन, शालीमार बाग, रोहिणी, पीतमपुरा, पालम नगर गुड़गांव के पास हैं और किराये पर मकान लेने के लिेए शानदार लोकेशन हैं।

नोएडा:

कम रेंटल और रोजगार के अवसरों के कारण नोएडा किराये पर घर लेने वालों की पसंद बन गया है। परमार ने कहा, नोएडा में सेक्टर, 74 और 78 किराये पर घर लेने की सर्वश्रेष्ठ लोकेशन हैं। इसका कारण है कि ये जगह नोएडा के रोजगार केंद्र और ग्रेटर नोएडा से करीब हैं। उन्होंने कहा, नोएडा के जिन सेक्टर्स में किराये के मकानों की खूब मांग है, वे हैं सेक्टर्स 137 और 144। अगर बात लग्जरी सेग्मेंट्स की करें तो कई राजनयिक और प्रवासी डिप्लोमैटिक एन्क्लेव, गोल्फ लिंक्स, सुंदर नगर, पृथ्वी राज रोड और जोर बाग को चुनते हैं।
किराये पर घर लेने से पहले ये जरूर देख लें: दिल्ली-एनसीआर में घर किराये पर लेने वालों के पास कई विकल्प हैं, लेकिन कई फैक्टर्स के कारण प्रक्रिया आसान नहीं है। अंतिम नतीजे पर पहुंचने से पहले प्रस्तावित किरायेदारों को एक चेकलिस्ट बनानी चाहिए, जिनमें इन फैक्टर्स को ध्यान में रखना चाहिए:
  • समय और दूरी, खासकर ट्रैफिक में खर्च होने वाले वक्त को कम करना।
  • अगर आपके पास कार है तब भी पब्लिक ट्रांसपोर्ट नेटवर्क कैसा है।
  • जिसमें आप रहना चाहते हैं, वह सोसाइटी कैसी है।
  • आस-पड़ोस में सेफ्टी और सिक्योरिटी कैसी है।
  • इलाके में बुनियादी सुविधाओं की उपलब्धता।
  • किरायेदारों और मकानमालिक के अधिकारों को ध्यान में रखने हुए पेपरवर्क कराना चाहिए।
  • रेंट अग्रीमेंट के फॉर्मेट को ध्यान से चेक करें और देख लें कि कहीं आप बेनामी संपत्ति के लिए तो सालाना किराया नहीं दे रहे।
Was this article useful?
  • 😃 (1)
  • 😐 (0)
  • 😔 (0)

Comments

comments