चेन्नई में रहते हैं तो एेसे जमा कराएं प्रॉपर्टी टैक्स, बेहद आसान है तरीका


हर साल प्रॉपर्टी मालिकों को प्रॉपर्टी टैक्स चुकाना पड़ता है। लेकिन यह इलाके पर निर्भर करता है कि वहां प्रॉपर्टी टैक्स की दर क्या होगी। हो सकता है कि आपके घर से महज 500 मीटर की दूरी पर जो दूसरा इलाका हो, वहां और आपके इलाके की प्रॉपर्टी टैक्स दरें अलग-अलग हों। अगर आप चेन्नई में रहते हैं तो वहां प्रॉपर्टी टैक्स चुकाने का क्या तरीका है आइए इसी पर चर्चा करते हैं।
ग्रेटर चेन्नई कॉरपोरेशन (GCC) को हर साल चेन्नईवासी प्रॉपर्टी टैक्स चुकाते हैं। इस राशि का इस्तेमाल निकाय संस्था नागरिक सुविधाओं और सेवाओं में करती है। अगस्त 2017 में मद्रास हाई कोर्ट ने GCC को प्रॉपर्टी टैक्स की दरें संशोधित कर पाने में विफल रहने पर फटकार लगाई थी। अनुमान लगाया गया कि साल 2002 से हर 4 साल में प्रॉपर्टी टैक्स में संशोधन करने में नाकाम रहने पर 1500 करोड़ रुपये के राजस्व का नुकसान हुआ। कोर्ट ने कहा, अगर प्रॉपर्टी टैक्स में संशोधन नियमों के मुताबिक किया जाता तो रिहायशी इमारतों के लिए संशोधन 25 प्रतिशत और कमर्शियल के लिए 100 प्रतिशत होता। मई 2017 में चेन्नई कॉरपोरेशन ने जो बजट पास किया था, उसमें 2017-18 के प्रॉपर्टी टैक्स में कोई बदलाव नहीं किया। यह भी संभावना नहीं है कि जीसीसी अप्रैल 2019 से पहले प्रॉपर्टी टैक्स की दरों में बदलाव करेगी। लेकिन नवंबर 2017 तक उसने शहर के 15 जोनों में समान टैक्स दरें बनाने की प्रतिबद्धता जाहिर की थी।

चेन्नई में रिहायशी संपत्ति के प्रॉपर्टी टैक्स को कैसे कैलकुलेट करें:

प्रॉपर्टी टैक्स की गणना जीसीसी Reasonable Letting Value (RLV) सिस्टम के जरिए करती है।
इसका इस्तेमाल पूरे शहर में संपत्तियों के लिए लागू अर्ध-वार्षिक प्रॉपर्टी टैक्स कैलकुलेट करने के लिए किया जाता है। प्रॉपर्टी टैक्स का आकलन करने के लिए जीसीसी इन साधनों को ध्यान में रखती है।
  • प्लिन्थ एरिया
  • जहां प्रॉपर्टी स्थित है, उस जगह का बेसिक रेट
  • बिल्डिंग का इस्तेमाल (रिहायशी या गैर-रिहायशी)
  • कौन रह रहा है (मकान मालिक या किरायेदार)
  • बिल्डिंग कितनी पुरानी है।
प्रॉपर्टी टैक्स कैलकुलेट करने का सबसे भरोसेमंद और तेज तरीका अॉनलाइन प्रॉपर्टी टैक्स कैलकुलेटर है, जो जीसीसी की वेबसाइट पर मौजूद है। इसके अलावा जीसीसी की वेबसाइट पर टैक्स की राशि की मैन्युअल कैलकुलेशन भी की जा सकती है। इसके लिए कुछ गाइडलाइंस फॉलो करनी पड़ेंगी। अगर आपको लगता है कि अॉनलाइन प्रॉपर्टी कैलकुलेटर ने जो रकम आपको दिखाई है, वह गलत है तो राजस्व अधिकारी के पास आप शिकायत दर्ज करा सकते हैं।

कैसे करें प्रॉपर्टी टैक्स का भुगतान:

प्रॉपर्टी टैक्स अॉनलाइन भरने के लिए आप ग्रेटर चेन्नई कॉरपोरेशन की वेबसाइट के लिंक http://www.chennaicorporation.gov.in/online-civic-services/editPropertytaxpayment.do?do=getCombo पर जाएं। आप मैन्युअली भी राजस्व अधिकारी, असिस्टेंट रेवेन्यू अॉफिस, अॉफिसर अॉफ जोनल अॉफिसेज I से XV के अलावा एक्सिस बैंक, कैनरा बैंक, सिटी यूनियन बैंक, एचडीएफसी बैंक, आईसीआईसीआई बैंक, आईडीबीआई बैंक या इंडियन ओवरसीज बैंक में प्रॉपर्टी टैक्स जमा करा सकते हैं। हर साल प्रॉपर्टी टैक्स जमा करने की आखिरी तारीख 31 मार्च या 31 सितंबर होती है। अगर देर से पेमेंट करते हैं तो जीसीसी बकाया राशि पर एक प्रतिशत की दर से हर महीने पेनाल्टी लगाता है।
Was this article useful?
  • 😃 (0)
  • 😐 (0)
  • 😔 (0)

Comments

comments