दिल्ली में प्रॉपर्टी टैक्स कैसे भरें? जानें ईडीएमसी, एनडीएमसी और एसडीएमसी के बारे में हर जरूरी जानकारी


प्रॉपर्टी टैक्स हर साल मकानमालिकों को चुकाना पड़ता है. लेकिन लोकेशन के हिसाब से रकम अलग-अलग होती है. आइए आपको दिल्ली में प्रॉपर्टी टैक्स की पूरी जानकारी देते हैं.

दिल्ली में रिहायशी प्रॉपर्टी मालिकों को हर साल म्युनिसिपल कॉरपोरेशन ऑफ दिल्ली (MCD) को प्रॉपर्टी टैक्स चुकाना पड़ता है. जिस इलाके या कॉलोनी में आपकी प्रॉपर्टी स्थित है, उसके हिसाब से आपको प्रॉपर्टी टैक्स देना होता है. आप यह टैक्स या तो साउथ दिल्ली म्युनिसिपल कॉरपोरेशन (SDMC), नॉर्थ दिल्ली म्युनिसिपल कॉरपोरेशन (NDMC) या फिर ईस्ट दिल्ली म्युनिसिपल कॉरपोरेशन (EDMC) को चुकाएंगे. दिल्ली को ए से एच तक प्रॉपर्टी की वैल्यू के आधार पर आठ श्रेणियों में बांटा गया है. प्रॉपर्टी टैक्स का रेट और यूनिट एरिया वैल्यू (संपत्ति प्रति वर्ग मीटर के लिए निर्धारित मूल्य) हर 8 श्रेणी के लिए अलग-अलग होगी.

दिल्ली में प्रॉपर्टी टैक्स की गणना कैसे करें:

एमसीडी एरिया यूनिट सिस्टम का इस्तेमाल करके पूरे शहर में प्रॉपर्टी टैक्स का कैलकुलेशन करती है. इस कैलकुलेशन में यह फॉर्म्युला इस्तेमाल होता है.

प्रॉपर्टी टैक्स=एनुअल वैल्यू x रेट ऑफ टैक्स जहां एनुअल वैल्यू= यूनिट एरिया वैल्यू प्रति स्क्वेयर मीटर x यूनिट एरिया ऑफ प्रॉपर्टी x ऐज फैक्टर x यूज फैक्टर x स्ट्रक्चर फैक्टर x ऑक्युपेंसी फैक्टर  

टैक्स का रेटA से H  तक की श्रेणियों में प्रॉपर्टी की टैक्स दरें हर साल MCD प्रकाशित करता है
यूनिट एरिया वैल्यूयह प्रॉपर्टी के बिल्ड अप एरिया का असाइन्ड वैल्यू प्रति वर्ग मीटर है. यूनिट एरिया वैल्यू प्रति स्क्वेयर मीटर ए से एच तक की श्रेणी के लिए अलग-अलग है.
यूनिट एरिया ऑफ प्रॉपर्टीबिल्ड अप एरिया (कार्पेट एरिया नहीं) प्रति स्क्वेयर मीटर में गणना के लिए इस्तेमाल किया जाता है.
ऐज फैक्टरपुरानी इमारतों की तुलना में नई प्रॉपर्टीज पर टैक्स ज्यादा लगता है.इस फैक्टर की वैल्यू की रेंज 0.5 से 1.0 तक होती है.
यूज फैक्टरआवासीय संपत्तियों पर गैर-आवासीय की तुलना में कम टैक्स लगाया जाता है. आवासीय संपत्तियों की वैल्यू 1 है.
स्ट्रक्चर वैल्यूआरसीसी निर्माणों पर कम मूल्य वाले निर्माणों से अधिक टैक्स लगाया जाता है.
ऑक्युपेंसी फैक्टरजिन संपत्तियों को किराए पर दिया जाता है, उन पर खुद के कब्जे वाली प्रॉपर्टी की तुलना में अधिक टैक्स लगाया जाता है.

2020-21 में दिल्ली में हाउस टैक्स की दरें

श्रेणीहाउस टैक्सकमर्शियल प्रॉपर्टी पर प्रॉपर्टी टैक्स
A12%20%
B12%20%
C11%20%
D11%20%
E11%20%
F7%20%
G7%20%
H7%20%

यूनिट एरिया वैल्यू

कैटिगरीयूनिट एरिया वैल्यू (रुपये प्रति वर्ग मीटर)
कैटिगरी A630
कैटिगरी B500
कैटिगरी  C400
कैटिगरी  D320
कैटिगरी  E270
कैटिगरी  F230
कैटिगरी  G200
कैटिगरी  H100

ऐज फैक्टर

निर्माण का वर्षऐज फैक्टर
1960 से पहले0.5
1960-690.6
1970-790.7
1980-890.8
1990-990.9
2000 के बाद1

यूज फैक्टर्स

प्रॉपर्टी टाइपयूज फैक्टर
रिहायशी प्रॉपर्टी1
गैर-आवासीय सार्वजनिक उद्देश्य1
गैर-आवासीय सार्वजनिक उपयोगिता2
उद्योग, मनोरंजन और क्लब3
2 स्टार रेटिंग वाले रेस्टोरेंट और होटल4
3 स्टार और उससे ऊपर के होटल, टावर और होर्डिंग्स10

स्ट्रक्चर फैक्टर

कंस्ट्रक्शन टाइपकंस्ट्रक्शन फैक्टर
पक्का (आरसीसी बिल्डिंग)1.0
सेमी पक्का1.0
कच्चा0.5

ऑक्युपेंसी फैक्टर

ऑक्युपेंसी टाइपऑक्युपेंसी फैक्टर
खुद के कब्जे वाला1.0
किराये पर दिया हुआ2.0
खाली0.6

प्रॉपर्टी टैक्स का कैलकुलेशन का तरीका

मान लीजिए आपके पास 1000 वर्ग फुट की प्रॉपर्टी है, जिसमें आप खुद रहते हैं. आपकी कॉलोनी बी कैटिगरी में आती है.

यूनिट एरिया वैल्यू= 500 रुपये प्रति स्क्वेयर मीटर
यूनिट एरिया= 100 स्क्वेयर मीटर
ऐज फैक्टर=0.6
यूज फैक्टर=1
स्ट्रक्चर फैक्टर= 1.0
ऑक्युपेंसी फैक्टर = 1.0
सालाना वैल्यू= 500x 100 x 0.6 x 1.0 x 1.0 x 1.0 = 30 हजार रुपये

प्रॉपर्टी टैक्स=सालाना वैल्यू x रेट ऑफ टैक्स (जैसा कि ऊपर कैटिगरी बी के टैक्स रेट में बताया गया)= 30000×12%= 3600 रुपये

नेट प्रॉपर्टी टैक्स= 3600 रुपये

दिल्ली में प्रॉपर्टी टैक्स पर दी जाने वाली रीबेट

प्रॉपर्टी टैक्स पेमेंट्स में एमसीडी कुछ रीबेट भी देती है:

-अगर आपके प्रॉपर्टी टैक्स का भुगतान वर्ष की पहली तिमाही के दौरान एक किस्त में एकमुश्त के रूप में किया जाता है, तो आप अपनी कुल टैक्स राशि पर 15 प्रतिशत की छूट हासिल कर सकते हैं.

-सालाना वैल्यू के 10 प्रतिशत तक की छूट 100 वर्ग मीटर तक के डीडीए/सीजीएचएस फ्लैटों को दी जाती है.

-वरिष्ठ नागरिकों, महिलाओं और दिव्यांगों को 30 प्रतिशत तक की रीबेट दी जाती है.

ऑनलाइन अपने प्रॉपर्टी टैक्स का भुगतान कैसे करें

प्रॉपर्टी टैक्स चुकाने का सबसे आसान तरीका है कि आप एमसीडी की वेबसाइट पर जाकर इंटरनेट बैंकिंग, डेबिट या क्रेडिट कार्ड के जरिए भुगतान कर सकते हैं. पिछले साल अपनी वेबसाइट को और बेहतर बनाने के लिए एमसीडी ने अच्छा खासा निवेश किया है, ताकि ऑनलाइन प्रॉपर्टी टैक्स पेमेंट्स को बढ़ावा दिया जा सके. जब आप एमसीडी की वेबसाइट पर जाएंगे तो आपको अपने एरिया के एमसीडी के हिसाब से तीन लिंक्स में से किसी एक को चुनना होगा. ये हैं साउथ दिल्ली म्युनिसिपल कॉरपोरेशन (SDMC), नॉर्थ दिल्ली म्युनिसिपल कॉरपोरेशन (NDMC), ईस्ट दिल्ली म्युनिसिपल कॉरपोरेशन (EDMC).

जो कॉलोनियां इन 3 कॉरपोरेशन्स के तहत आती हैं, वे साउथ, ईस्ट और नॉर्थ म्युनिसिपल कॉरपोरेशन्स की वेबसाइट पर भी लिस्टेड हैं. सारे नियमों और शर्तों को ध्यान से पढ़ें और फिर बॉक्स पर क्लिक करके आगे बढ़ें.

Pay Property Tax in Delhi Online

इसके बाद आप एक नए पेज पर पहुंच जाएंगे, जहां आपको अपनी प्रॉपर्टी आईडी डालनी होगी. आप पेमेंट के लिए नेट बैंकिंग, क्रेडिट कार्ड या डेबिट कार्ड का इस्तेमाल कर सकते हैं.

Pay Property Tax in Delhi Online

अगर देरी से प्रॉपर्टी टैक्स का भुगतान कर रहे हैं तो एमसीडी बकाया राशि पर हर महीने एक प्रतिशत की दर से जुर्माना वसूलेगी. एमसीडी की वेबसाइट पर पेमेंट देने के बाद सुनिश्चित करें कि सिस्टम आपका रिकॉर्ड अपडेट कर ले और आपके खाते में कोई बकाया राशि न दिखे. अगर कोई गलती दिखती है तो उसे तुरंत ठीक करें.

प्रॉपर्टी टैक्स पेयर्स के लिए ताजा खबर

1 जुलाई 2020 का अपडेट:

कोरोना वायरस के कारण प्रॉपर्टी टैक्स की डेडलाइन बढ़ा दी गई है

जानलेवा कोरोना वायरस के कारण पैदा हुई स्थिति को देखते हुए तीनों नगर निगमों (EDMC, SDMC, NDMC) ने 30 जून 2020 को फैसला किया कि 2019-20 के वित्त वर्ष में प्रॉपर्टी टैक्स के भुगतान की डेडलाइन को 31 जुलाई 2020 तक बढ़ाया जाएगा. तय तारीख से पहले चुकाने पर सभी टैक्स पेयर्स को टैक्स बिल पर 15 प्रतिशत तक की छूट मिलेगी. पहले प्रॉपर्टी टैक्स चुकाने की अंतिम तारीख 30 जून 2020 थी. कॉरपोरेशन्स ने विभिन्न इलाकों में कैंप लगाएं हैं, ताकि लोगों की मैनुअली या ऑनलाइन व बिना कॉरपोरेशन के ऑफिस जाए टैक्स फाइल करने में मदद की जा सके.

6 जनवरी 2020 का अपडेट

ईस्ट दिल्ली प्रॉपर्टी मालिकों को एक यूनीक प्रॉपर्टी आइडेंटिफिकेशन कोड कार्ड दिए जाएंगे

अधिकारियों ने बताया, 3 जनवरी 2020 से ईस्ट दिल्ली म्युनिसिपल कॉरपोरेशन ने प्रॉपर्टी मालिकों को यूनीक प्रॉपर्टी आइडेंटिफिकेशन कोड (UPIC) कार्ड्स बांटने का काम शुरू कर दिया है ताकि प्रॉपर्टी टैक्स भुगतान करने का विस्तार किया जा सके. पटपड़गंज स्थित ईडीएमसी मुख्यालय में आयोजित एक समारोह में निकाय प्रशासन ने प्रॉपर्टी टैक्स मैनेजमेंट पोर्टल लॉन्च किया है.

UPIC कार्ड में प्रॉपर्टी मालिकों की जानकारी होती है. पहले तीन नंबर आपकी वार्ड संख्या होगी, अगले 4 नंबर कॉलोनी संख्या और बाकी नंबर उस प्रॉपर्टी के बारे में बताएंगे. एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, ‘इस प्रोजेक्ट के तहत शिकायतों का निपटारा केंद्रीय कॉल सेंटर से होगा.’ ईडीएमसी में 795 कॉलोनियां और 64 वार्ड आते हैं और यूपीआईसी कार्ड बांटने का सर्वे 32 वार्ड्स में पूरा हो चुका है. मार्च 2020 तक उम्मीद है कि ईस्ट दिल्ली की सारी प्रॉपर्टीज प्रॉपर्टी टैक्स नेट में शामिल कर ली जाएंगी.

(पीटीआई के इनपुट के साथ)

ईडीएमसी ने पेश किया प्रोफेशनल टैक्स

कुछ श्रेणियों की कॉलोनियों में ईडीएमसी ने प्रॉपर्टी टैक्स 3 प्रतिशत बढ़ाने का फैसला किया है. ईडीएमसी कमिश्नर डॉ. दिलराज कौर ने उन लोगों के लिए 100 रुपये प्रति माह का प्रोफेशनल टैक्स लगाने का प्रस्ताव दिया, जो प्रति वर्ष 5 लाख रुपये से अधिक कमाते हैं और 10 लाख रुपये से अधिक कमाने वालों के लिए ये दर 200 रुपये प्रति माह है. अन्य प्रस्तावों में बेहतरी कर शामिल है, जिसकी दर प्रॉपर्टी टैक्स का 10 प्रतिशत है. साथ ही एजुकेशन टैक्स 5 प्रतिशत और एसडब्ल्यूएम एक्ट के तहत कचरा उठाने का शुल्क शामिल है.

श्रेणियों में बांटी गईं दिल्ली की कॉलोनियां

कैटिगरीमुख्य कॉलोनियां
Aआनंद निकेतन, बसंत लोक डीडीए कॉम्प्लेक्स, भीकाजी कामा प्लेस, फ्रेंड्स कॉलोनी, फ्रेंड्स कॉलोनी ईस्ट, फ्रेंड्स कॉलोनी वेस्ट, गोल्फ लिंक्स, कालिंदी कॉलोनी, लोधी रोड इंडस्ट्रियल एरिया, महारानी बाग, नेहरू प्लेस, न्यू फ्रेंड्स कॉलोनी, पंचशील पार्क, राजेंद्र प्लेस, शांति निकेतन, सुंदर नगर, वसंत विहार
Bआनंद लोक, एंड्रयूज गंज, डिफेंस कॉलोनी, ग्रेटर कैलाश I, ग्रेटर कैलाश II, ग्रेटर कैलाश III, ग्रेटर कैलाश IV, ग्रीन पार्क, गुलमोहर पार्क, हमदर्द नगर, हौज़ खास, मौरिस नगर, मुनिरका विहार, नीति बाग, नेहरू एन्क्लेव, निजामुद्दीन ईस्ट, पंपोश एन्क्लेव, पंचशील पार्क, सफदरजंग एन्क्लेव, सर्वप्रिया विहार, सर्वोदय एन्क्लेव
Cअलकनंदा, चितरंजन पार्क, सिविल लाइंस, ईस्ट ऑफ कैलाश, ईस्ट पटेल नगर, झंडेवालान एरिया, कैलाश हिल, कालकाजी, लाजपत नगर I, लाजपत नगर II, लाजपत नगर III, लाजपत नगर IV, मालवीय नगर, मस्जिद मोठ, मुनिरका, निजामुद्दीन वेस्ट , पंचशील विस्तार, पंजाबी बाग, सोम विहार, वसंत कुंज
Dआनंद विहार, दरियागंज, द्वारका, ईस्ट एंड अपार्टमेंट, गगन विहार, हडसन लाइन, इंद्रप्रस्थ एक्सटेंशन, जनकपुरी, जंगपुरा ए, जंगपुरा एक्सटेंशन, जसोला विहार, करोल बाग, कीर्ति नगर, मयूर विहार, न्यू राजिंदर नगर, ओल्ड राजिंदर नगर, राजौरी गार्डन
Eचांदनी चौक, ईस्ट एंड एन्क्लेव, गगन विहार एक्सटेंशन, हौज़ काज़ी, जामा मस्जिद, कश्मीरी गेट, खिड़की एक्सटेंशन, मधुबन एन्क्लेव, महावीर नगर, मोती नगर, पहाड़ गंज, पांडव नगर, रोहिणी, सराय रोहिल्ला
Fआनंद परबत, अर्जुन नगर, दया बस्ती, दिलशाद कॉलोनी, दिलशाद गार्डन, बीआर अंबेडकर कॉलोनी, गणेश नगर, गोविंदपुरी, हरि नगर, जंगपुरा बी, मधु विहार, मजनू का टीला, मुखर्जी पार्क एक्सटेंशन, नंद नगरी, उत्तम नगर, जाकिर नगर ओखला
Gअम्बेडकर नगर जहांगीरपुरी, अम्बेडकर नगर ईस्ट दिल्ली, अम्बर विहार, डाबरी एक्सटेंशन, दक्षिणपुरी, दशरथ पुरी, हरि नगर एक्सटेंशन, विवेक विहार फेज I, टैगोर गार्डन
Hसुल्तानपुर माजरा

 

अकसर पूछे जाने वाले सवाल

दिल्ली में प्रॉपर्टी टैक्स की कैलकुलेशन कैसे होती है?

पूरे शहर में प्रॉपर्टी टैक्स की कैलकुलेशन करने के लिए एमसीडी यूनिट एरिया सिस्टम का इस्तेमाल करती है. जो फॉर्म्युला प्रॉपर्टी टैक्स की कैलकुलेशन के लिए इस्तेमाल होता है वो है: प्रॉपर्टी टैक्स= एनुअल वैल्यू x रेट ऑफ टैक्स

दिल्ली में ऑनलाइन कैसे भरें प्रॉपर्टी टैक्स?

प्रॉपर्टी टैक्स भरने का तरीका बेहद आसान है. एमसीडी की वेबसाइट पर उसे इंटरनेट बैंकिंग, डेबिट या क्रेडिट कार्ड के जरिए ऑनलाइन आसानी से भरा जा सकता है. जब आप एमसीडी की वेबसाइट पर जाएंगे तो आपको इलाके के म्युनिसिपल कॉरपोरेशन के आधार पर तीन लिंक्स में से कोई एक चुनना होगा. इसके बाद आपको प्रॉपर्टी आईडी डालनी है और काम हो गया.

प्रॉपर्टी टैक्स पर क्या एमसीडी रीबेट भी देती है?

अगर प्रॉपर्टी टैक्स का भुगतान साल की पहली तिमाही के दौरान एक किस्त में एकमुश्त के रूप में किया जाता है, तो आप अपनी कुल टैक्स राशि पर 15 प्रतिशत की छूट हासिल कर सकते हैं. वरिष्ठ नागरिकों, महिलाओं और दिव्यांग जनों को 30 प्रतिशत की छूट केवल एक प्रॉपर्टी पर दी जाती है.

ईडीएमसी प्रॉपर्टी टैक्स कैसे भरें?

mcdpropertytax.in पर जाकर ईस्ट दिल्ली म्युनिसिपल कॉरपोरेशन को सिलेक्ट करें. बॉक्स पर टिक करके आगे बढ़ें. अपनी प्रॉपर्टी आईडी डालें ताकि पुरानी फाइलिंग खुल जाए. पेमेंट की डिटेल डालें और पावती हासिल करें.

एसडीएमसी प्रॉपर्टी टैक्स कैसे भरें?

mcdpropertytax.in पर जाकर साउथ दिल्ली म्युनिसिपल कॉरपोरेशन को सिलेक्ट करें. बॉक्स पर टिक करके आगे बढ़ें. अपनी प्रॉपर्टी आईडी डालें ताकि पुरानी फाइलिंग खुल जाए. SDMC ने 2014-15 के प्रॉपर्टी टैक्स रिटर्न के आधार पर UPIC आवंटित किया है ताकि आप भुगतान के लिए इस प्रॉपर्टी आईडी का उपयोग कर सकें. पेमेंट डिटेल्स में फीड और पावती पर्ची हासिल करें.

एनडीएमसी प्रॉपर्टी टैक्स का भुगतान कैसे करें?

mcdpropertytax.in पर जाकर नॉर्थ दिल्ली म्युनिसिपल कॉरपोरेशन को सिलेक्ट करें. बॉक्स पर टिक करके आगे बढ़ें. अपनी प्रॉपर्टी आईडी डालें ताकि पुरानी फाइलिंग खुल जाए. पेमेंट की डिटेल डालें और पावती हासिल करें.

Was this article useful?
  • 😃 (0)
  • 😐 (0)
  • 😔 (0)

Comments

comments