राजस्थान में ई-ग्रास के जरिए कैसे भुगतान करें जमीन का टैक्स


राजस्थान में भूमि कर या प्रॉपर्टी टैक्स ई-ग्रास के जरिए भुगतान किया जा सकता है. इस आर्टिकल में हम आपको बताएंगे कि कैसे आप ई-ग्रास पोर्टल का इस्तेमाल कर सकते हैं.

भारत में आपको हर साल या हर महीने पर प्रॉपर्टी टैक्स देना पड़ता हैजिसे भूमि कर या फिर प्रॉपर्टी टैक्स भी कहा जाता है. इस आर्टिकल में आप यह समझ पाएंगे कि कैसे राजस्थान में आप भूमि कर का भुगतान ऑनलाइन गवर्नमेंट रसीद अकाउंटिंग सिस्टम (e-GRAS) के जरिए कर सकते हैं. भूमि कर के अलावा बाकी लेनदेन या टैक्स जो सरकार के लिए राजस्व जुटाते हैंउनको ई-ग्रास पोर्टल के जरिए भुगतान किया जा सकता है.

अब समझिए ई-ग्रास के जरिए भूमि कर भुगतान करने की प्रक्रिया

स्टेप 1सबसे पहले ई-ग्रास के आधिकारिक पोर्टल पर जाएं. दाईं ओर आपको साइन इन का सेक्शन दिखाई देगा. अगर आप नए यूजर हैं तो आपको एक नया अकाउंट बनाना होगा. पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन करने के लिए आपको मांगी गई सारी जानकारियां भरनी होंगी. इसमें आपका नामलिंगफोन नंबरवैवाहिक स्थितिपता, TIN/अकाउंट नंबर/वाहन का नंबर/टैक्स आईडी और अकाउंट को सुरक्षित रखने के लिए सिक्योरिटी का सवाल शामिल होगा.

egras raj

eGRAS Rajasthan

ध्यान दें: अगर आप रजिस्ट्रेशन नहीं करते हैं तो बतौर गेस्ट‘ इस सुविधा का लाभ ले सकते हैं. इसके लिए आपको यूजर आईडी में guest डालना होगा और पासवर्ड भी guest ही रहेगा. हालांकि गैर-पंजीकृत यूजर्स ना तो हिस्ट्री चेक कर पाएंगे और ना ही पेमेंट के बाद प्रिंटआउट ले पाएंगे.

स्टेप 2: एक प्रोफाइल बनाएं. बजट हेड्स में जाकर जरूरी बजट हेड्स चुनेंजो संबंधित विभाग से जुड़े होते हैं.

e-GRAS Rajasthan

स्टेप 3: इसके बाद विभाग चुनें. अगर भूमि कर का भुगतान करना है तो डिपार्टमेंट 86 चुनेंजो रजिस्ट्रेशन और स्टैंप डिपार्टमेंट है. ट्रेजरी कोड और अन्य विवरण जैसे ऑफिस का नामसरकारी रसीद संख्या या जीआरएनबैंक का नाम और राशि चुनें.

Rajasthan land tax

Rajasthan property tax

eGRAS Property tax Rajasthan

स्टेप 4: जब आप सारी जानकारी भर देंगे तो चालान की प्रक्रिया शुरू हो जाएगी. अब आपको ई-चालान की जानकारी भरनी होगी. इसमें जिलाऑफिस का नामट्रेजरीसालबजट हेडराशिपेमेंट का प्रकार (मैनुअल/ई-बैंकिंग)बैंक का नामरीमिटर का नामपिनपता और चालान पर कोई अन्य अतिरिक्त विवरण शामिल होगा.

नोट: अगर आप मैनुअल बैंकिंग का विकल्प चुन रहे हैं तो बैंक की शाखा में जाकर ही पेमेंट करें. आप चालान का प्रिंटआउट भी निकाल सकते हैं.

eGRAS Rajasthan land tax

स्टेप 5: आप चालान देख सकते हैं और रेफरेंस के लिए प्रिंटआउट भी निकाल सकते हैं. कुछ मामूली बदलावों के साथ इसी चालान को जमा कराने के लिए आप रिपीट का इस्तेमाल कर सकते हैं. ई-चालान की प्रिंट होने योग्य कॉपी बैंक की वेबसाइट पर दोनों ही यूनिक आईडी (जीआरएन और सीआईएन) के साथ जनरेट होगीजिसमें भुगतान करने वाले के खाते से पैसा मिलने की पुष्टि होगी.

How to pay Rajasthan land tax through e-Gras?

नोट: ऑनलाइन बैंकिंग प्रक्रिया के लिए यूजर के पास इंटरनेट बैंकिंग के साथ-साथ ट्रांजेक्शन पासकोड की सुविधा होनी चाहिए. अगर आप ऑफलाइन बैंकिंग प्रक्रिया को चुन रहे हैं तो यूजर को चालान जमा करते वक्त बैंक की डिटेल्स सिलेक्ट करनी होगी.

ई-ग्रास साइट पर लेनदेन को क्या चीज अलग बनाती है?

जीआरएनसीआईएन और चालान नंबर की वजह से ई-ग्रास वेबसाइट पर लेनदेन अलग होती हैं. किसी भी  शंका की स्थिति में ई-ग्रास पर की गई लेनदेन को लेकर आप जीआरएन नंबर या बैंक का नाम दे सकते हैं.

अपना खाता सुरक्षित रखने के लिए अपनी प्रोफाइल में ताजी सूचना डालें. साथ ही कुछ-कुछ समय पर पासवर्ड भी बदलते रहें. अपनी यूजर आईडी और पासवर्ड किसी को भी ना बताएं और यह सलाह दी जाती है कि गेस्ट अकाउंट इस्तेमाल करने की जगह अपनी खुद की आईडी का इस्तेमाल करें.

राजस्थान ई-ग्रास वेबसाइट पर ई-चालान का प्रिंटआउट कैसे निकालें?

जिन यूजर्स ने रजिस्ट्रेशन किया हुआ हैवे कहीं से और किसी भी वक्त ई-ग्रास पोर्टल पर जाकर ई-चालान निकाल सकते हैं.

eGRAS Rajasthan challan

मैनुअल बैंकिंग के मकसदों के लिए ई-चालान के पांच सैंपल

eGRAS challan

डीफेस्ड स्टैम्प के साथ ई-चालान का नमूना

How to pay Rajasthan land tax through e-Gras?

राजस्थान बजट 2021

विधानसभा में साल 2021-22 के लिए राजस्थान का बजट पेश करते हुए मुख्यमंत्री अशोक गहलोत  ने डीएलसी दरों में 10% की कटौती की और 50 लाख रुपये तक के फ्लैटों की रजिस्ट्री दरों को मौजूदा 6% से  4% कर दिया. कोरोना वायरस महामारी की मार झेल रहे लोगों को राहत देते हुए कोई नया टैक्स नहीं लगाया गया है. कृषिस्वास्थ्य और शिक्षा को बजट की घोषणाओं में प्राथमिकता दी गई है.

पूछे जाने वाले सवाल

भूमि कर की राशि किस पर निर्भर करती है?

यह कई फैक्टर्स पर निर्भर करती है जैसे जमीन की सटीक लोकेशन, साइज/जमीन का एरिया, घर का मालिक महिला है या पुरुष (महिला मालिकों को छूट दी जाती है), मालिक की उम्र (वरिष्ठ नागरिकों को छूट दी जाती है) और स्थानीय प्रशासन द्वारा मुहैया कराई जा रही सुविधाएं.

क्या ई-ग्रास के जरिए मैं गैर-कर राजस्व कर का भुगतान कर सकता हूं?

हां, टैक्स वसूली/गैर कर राजस्व ई-ग्रास के माध्यम से होता है.

जीआरएन का फुल फॉर्म क्या है?

GRN यानी गवर्नमेंट रेफरेंस नंबर, जो हर लेनदेन के लिए बनाया जाता है.

Was this article useful?
  • 😃 (0)
  • 😐 (0)
  • 😔 (0)

Comments

comments