कर लगाना

बिजनेस में इस्तेमाल की गई संपत्ति की बिक्री से मुनाफे का कराधान और इस तरह के मुनाफे पर छूट

सभी प्रकार की आय की तरह, व्यापार गतिविधियों के माध्यम से हुए मुनाफे पर भारत में आयकर कानूनों के तहत टैक्स लगाया जाता है. जैसा कि बाकी आय के बारे में सच है, टैक्स कम करने … READ FULL STORY

कर लगाना

अगर कोई प्रॉपर्टी डील रद्द हो जाए तो पैसा कैसे वापस मिलेगा

प्रॉपर्टी डील हमेशा एक्जीक्यूशन और अग्रीमेंट के रजिस्ट्रेशन पर ही खत्म नहीं होती. कई बार टोकन मनी या कुछ पेमेंट भरने के बाद भी डील आधे रास्ते में ही खत्म हो जाती है. किसी … READ FULL STORY

कर लगाना

क्या होता है होल्डिंग पीरियड और उसका इनकम टैक्स पर प्रभाव

टैक्स में छूट पाने और घर को बेचने से पहले इनकम टैक्स के कानूनों के तहत प्रॉपर्टी का न्यूनतम होल्डिंग पीरियड (जितने समय के लिए प्रॉपर्टी किसी के पास रहती है) होना चाहिए. आइए … READ FULL STORY

कर लगाना

विरासत में मिली संपत्ति की बिक्री पर एेसे लगेगा टैक्स

विरासत में मिली संपत्ति की बिक्री पर लगने वाले टैक्स में काफी कन्फ्यूजन है। कुछ लोग सोचते हैं कि विरासत में मिली संपत्ति को बेचने से मिली राशि पूरी तरह से टैक्स फ्री है, … READ FULL STORY

कानूनी

जानिए अंडर कंस्ट्रक्शन प्रॉपर्टी के लिए कैसे कैलकुलेट होगा होल्डिंग पीरियड

लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन्स के साथ टैक्स छूट क्लेम करने के लिए किसी शख्स के लिए 24 महीने का होल्डिंग पीरियड काफी अहम होता है। लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन्स किसी संपत्ति विक्रेता को इंडेक्सेशन, … READ FULL STORY

जानिए कैसे लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन्स की टैक्स कैलकुलेशन पर इंडेक्सेशन असर डालता है?

2017 के बजट में लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन्स की गणना के तरीके में काफी बदलाव प्रस्तावित किए गए थे. इसमें इंडेक्सेशन के बेस ईयर में बदलाव भी शामिल है. आज हम आपको बताएंगे कि प्रॉपर्टी की बिक्री पर यह लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन्स को कैसे प्रभावित करेगा.