भारतीय घरों के लिए पूजा घर के डिजाइन


आज हम आपको पूजाघर के कुछ डिजाइन्स लेआउट और अन्य विकल्पों के बारे में बता रहे हैं, जिसमें से आप उन्हें चुन सकते हैं.

पूजा घर भारतीय घरों का अहम हिस्सा होते हैं. अगर आपका घर इतना बड़ा नहीं है कि पूजा का अलग कमरा हो तो आप घर के किसी कोने में अपनी पसंद का खूबसूरत मंदिर रख सकते हैं. आज हम आपको मशहूर पूजा घरों के डिजाइन्स व अन्य विकल्पों के बारे में बताएंगे, जिसमें से आप चुन सकते हैं.

मार्बल मंदिर डिजाइन

अगर आपके पास बड़ा घर है, जहां अलग से पूजा घर बनाने लायक जगह हो तो मार्बल से बेहतर विकल्प कुछ नहीं है. हालांकि इसमें देखभाल की जरूरत होगी और खर्च भी होगा. लेकिन इसकी उम्र बहुत लंबी होगी और आपको दीमकों की चिंता करने की जरूरत नहीं है. जब मार्बल पूजा घर के डिजाइन के तौर पर इस्तेमाल किया जाता है तो हर तरह के फ्लोर और सजावट के साथ रम जाता है. इससे न सिर्फ आपका पूजाघर खूबसूरत और मनोहर लगेगा बल्कि छोटे पूजा घर के डिजाइन के लिए भी यह सटीक है.

Simple pooja room designs for Indian homes

स्रोत: imimg.com

Simple pooja room designs for Indian homes

स्रोत: livmatrix.com

Simple pooja room designs for Indian homes

स्रोत: डिजाइन कैफे

लकड़ी का मंदिर 

सभी तरह की सजावट और इंटीरियर फिशिनिंग के साथ लकड़ी का मंदिर और खूबसूरत लगेगा. ऐसे पूजा घर जगह को और विशाल बना देते हैं. हालांकि लकड़ी की सजावट में खास देखभाल और मेंटेनेंस की जरूरत होती है. इसलिए आपको कमरे में दीया और मोमबत्ती जलाते हुए सावधानी बरतनी होगी.  इसके अलावा, लकड़ी पूजाघर में बहुविज्ञता और गर्माहट लाती है. अगर आपके यहां पर्याप्त जगह नहीं है तो आप छोटा पूजाघर का डिजाइन चुन सकते हैं. बड़े घरों के लिए, नया लकड़ी का मंदिर बनवाने के बजाय आप पुरानी लकड़ी को फिर से चमकाकर या फिर सेकेंड हैंड स्टोर्स पर जाकर लकड़ी के मंदिर के डिजाइन हासिल कर सकते हैं. इसकी आप अपनी मर्जी के मुताबिक फिनिशिंग करा सकते हैं.

स्रोत: livmatrix.com

Simple pooja room designs for Indian homes

स्रोत: अर्बनक्लैप

Simple pooja room designs for Indian homes

स्रोत: homify.com

छोटे मंदिर के डिजाइन

छोटे घरों और अपार्टमेंट्स, जिनमें पूजा घर के लिए अलग से जगह नहीं होती, उनमें छोटे मंदिर बेहतर विकल्प होते हैं. बाजार में ये मंदिर आसानी से उपलब्ध हैं. आप इनका मेड टू ऑर्डर भी दे सकते हैं.

Simple pooja room designs for Indian homes

स्रोत: Flipkart.com

Simple pooja room designs for Indian homes

स्रोत: stylatlife.com

Simple pooja room designs for Indian homes
Vijay Shankar | Housing News

स्रोत: pinimg.com

 

एक ऐसी सजावट बनाना जो आपके व्यक्तित्व और क्षमता को एक ही समय पर दिखाए, यह एक सिरदर्द देने वाला काम है. अब आप माउस का एक बटन दबाकर यह काम कर सकते हैं. हाउसिंग डॉट कॉम ने नामी होम इंटीरियर कंपनियों से साझेदारी की है ताकि आपके लिए होम इंटीरियर डिजाइन के सारे हल मिल सकें. मॉड्यूलर किचन्स से लेकर फुल इंटीरियर्स तक, हम सब कुछ लाए हैं आपके लिए-शुरू से अंत तक.

 

दीवार पर लगने वाले मंदिर

स्टूडियो अपार्टमेंट्स और काफी छोटे अपार्टमेंट्स में दीवार पर लगने वाले मंदिर सर्वश्रेष्ठ विकल्प होते हैं. आप इससे काफी जगह बचा सकते हैं और कम जगह में घर के किसी भी कोने में लगा सकते हैं.

Simple pooja room designs for Indian homes

स्रोत: stylatlife.com

Simple pooja room designs for Indian homes
Vijay Shankar | Housing News

स्रोत: वुडस्ट्रीट

Simple pooja room designs for Indian homes
Vijay Shankar | Housing News

स्रोत: pepperfry.com

मंदिर की दीवार को सजाने के आइडिया

अगर घर में पूजा के लिए अलग कमरा है तो आप मंदिर के बैकग्राउंड को आकर्षक लुक दे सकते हैं ताकि वह जगह खिल उठे. दीवार के साइज के जितनी बैकग्राउंड डेकोरेशन आपके कमरे में चार चांद लगा देगी. दीवारों के ये बैकग्राउंड्स विभिन्न आकार और कलर कॉम्बिनेशन में उपलब्ध है. इंटीरियर्स को ध्यान में रखकर आप इन्हें सिलेक्ट कर सकते हैं. आइए आपको कुछ डिजाइन्स दिखाते हैं:

Simple pooja room designs for Indian homes
Source: Amazon.in

Simple pooja room designs for Indian homes
Source: Artfactory.in

Simple pooja room designs for Indian homes
Source: Amazon.in

Simple pooja room designs for Indian homes

Source: Artfactory.in

Simple pooja room designs for Indian homes

Source: Amazon.in

 

Simple pooja room designs for Indian homes

Source: Amazon.in

पूजा रूम के दरवाजों के डिजाइन

अगर आपका अलग पूजा घर है तो आप ज्यादा प्राइवेसी के लिए उसमें दरवाजे लगा सकते हैं. हालांकि पूजा घर के दरवाजों के डिजाइन के लिए काफी विकल्प उपलब्ध हैं.  ज्यादा प्रैक्टिकल विकल्प कांच और लकड़ी के दरवाजों के डिजाइन का है.

कांच के दरवाजे: लकड़ी और कांच के जरिए आपको पर्याप्त प्राइवेसी के साथ आंशिक विजिबिलिटी मिलती रहेगी. अगर पूजा घर आपके लिविंग रूम या आपके घर के अन्य सामान्य क्षेत्रों का हिस्सा है तो आपको कांच के दरवाजे का डिज़ाइन चुनना चाहिए.

लकड़ी और कांच के दरवाजे: लकड़ी और कांच का मिश्रण पूजा घर की दृश्यता देने के साथ-साथ जगह का भ्रम भी पैदा करता है. ऐसे पूजा घर के दरवाजों के डिजाइन घर के कॉर्नर के लिए अच्छे होते हैं.

सफेद लकड़ी के दरवाजे: सबसे ऊपरी खांचे में लगे कांच के साथ सफेद लकड़ी के दरवाजे, इन दिनों एक ट्रेंडिंग डिज़ाइन है. इस तरह के पूजा घर के दरवाजे के डिज़ाइन के जरिए आप मजबूत लकड़ी के फ्रेम से कांच के दूसरी ओर देख सकते हैं.

 

पूजा घर को कैसे डेकोरेट करें?

  1. गहरे रंग का पेंट लगाएं: पूजा घर में गहरे रंग का पेंट लगाएं, जैसे सफेद, लाइट येलो या नारंगी. आप इन रंगों के पेस्टल शेड्स भी चुन सकते हैं क्योंकि इससे जगह काफी खुली, हवादार और शांतिपूर्ण लगती है.
  2. दरवाजे का आकर्षक डिजाइन चुनें: सुनिश्चित करें कि पूजा घर के दरवाजे का डिजाइन घर के बाकी कमरों से अलग हो. आप नक्काशीदार लकड़ी या एक पारदर्शी कांच का दरवाजा चुन सकते हैं.
  3. एंट्रेंस को स्वागतयोग्य बनाएं: आप पूजा घर के एंट्रेंस को रंगोली या रंगोली स्टिकर लगाकर और ज्यादा आकर्षक बना सकते हैं. आप दरवाजे की दोनों तरफ गमले भी रख सकते हैं या फिर दरवाजों के फ्रेम पर तोरण बांध सकते हैं. हमेशा गेंदे के फूल को तवज्जो दें क्योंकि वे शुभ माने जाते हैं.
  4. बैठने के लिए रंगीन तकिए और स्टूल रखें: बैठने के लिए विभिन्न आकार के छोटे स्टूल या फिर आरामदायक तकिए रखें. आप शीशे के डिजाइन वाले रंगीन कुशन कवर्स भी कमरे को सजाने के लिए इस्तेमाल कर सकते हैं.
  5. उजाला रखने के लिए विभिन्न तरह की लाइट्स लगाएं: यह सलाह हमेशा दी जाती है कि पूजा घर को हमेशा रोशन रखें. इसके लिए आप विभिन्न तरह की लाइट्स इस्तेमाल कर सकते हैं. आप झूमर या फिर ऊपरी प्रकाश के लिए किसी बल्ब का इस्तेमाल कर सकते हैं. कमरे को सजाने के लिए आप स्ट्रिंग लाइट्स का भी यूज कर सकते हैं. मंडप के दोनों ओर पीतल के दीपक रखें, जिन्हें दीयों के रूप में भी इस्तेमाल किया जा सकता है.
  6. पौधे और फूल रखें: ताजे फूल और प्राकृतिक हरे पौधे पूजा घर में रखने के लिए सबसे शुभ माने जाते हैं. लेकिन अगर आप प्राकृतिक पौधा रख रहे हैं तो उसे सूर्य की रोशनी मिलना भी जरूरी है.
  7. दीवारों और खिड़कियों को उजागर करने के लिए फीता या पर्दे का उपयोग करें: अगर कमरे में एक खिड़की है, तो कमरे को शांत बनाने के लिए रंगीन, लेसदार पर्दे लगाएं. आप कोई दरवाजा नहीं है तो आप मंडप पर खूबसूरत पर्दे भी लगा सकते हैं. आमतौर पर लोग पूजा के एरिया में रात के समय या फिर ग्रहण के वक्त पर्दे लगाते हैं.
  8. पूजा कक्ष में सोने के फोटो फ्रेम, गुंबद पर सोने की पत्ती, सजावटी पीतल धातु के दीये या पीतल के फूलों की टोकरियों के साथ, धातु की चमक का एक टच जोड़ें. सुनहरा पीला रंग समृद्धि और सकारात्मक ऊर्जा देता है. पूजा घर की साज-सज्जा को बढ़ाने के लिए आप चांदी की पूजा का सामान भी चुन सकते हैं.

 

कैसे अपने घर के लिए परफेक्ट मंदिर चुनें?

अपने घर के लिए एक बेहतर पूजा घर का डिजाइन या मंदिर बनाने से पहले, निम्नलिखित बातों पर विचार करें:

  • डिजाइन कार्यान्वयन के लिए उपलब्ध स्थान: अगर घर में एक अलग पूजा घर नहीं है, तो अपने मंदिर को एकांत स्थान पर रखने की कोशिश करें, जहां थोड़ी गोपनीयता हो और आप आसानी से ध्यान केंद्रित कर सकें.
  • बजट: पूजा घर/ मंदिर के लिए हमेशा एक अलग बजट रखें, ताकि आप उन चीजों पर खर्च न करें जिनकी आपको जरूरत नहीं है.
  • अपार्टमेंट/घर का साइज: ऐसा मंदिर चुनें जो आपके घर में फिट बैठता हो. अगर मंदिर कुल जगह से बड़ा या छोटा हुआ तो डिजाइन के मुताबिक सही नहीं बैठेगा.
  • घर की कलर स्कीम: जो मंदिर आप खरीदना चाहते हैं, उस पर फैसला करने से पहले घर की कलर स्कीम पर विचार करें.

 

पूजा रूम के लिए कलर स्कीम

पूजाघर आपके घर का सबसे पवित्र कोना होता है. इसलिए आपको ऐसे रंग चुनने होंगे, जो आपके घर में सकारात्मक ऊर्जा का संचार करें और घर के रंगों के साथ भी मेल खाएं. आइए आपको कुछ कलर ऑप्शन्स बताते हैं, जिससे आप अपने पूजा घर को पेंट कर सकते हैं.

  1. पीला: पीला रंग खुशी और आशा का प्रतिनिधित्व करता है. अपने आध्यात्मिक महत्व की वजह से यह पवित्र रंग माना जाता है. पीला रंग पूजा कक्ष में एक ध्यान का स्वर जोड़ता है.
  2. संतरी: चमकीला नारंगी रंग शक्ति का प्रतिनिधित्व करता है जबकि म्यूट टोन ऊर्जा का प्रतीक है. इस वजह से संतरी रंग को भी पीले रंग की तरह ही पूजा घर के लिए पवित्र माना जाता है. आप संतरी रंग का हल्का शेड भी चुन सकते हैं. ये जगह को तरोताजा महसूस कराएगा. लेकिन गहरे रंग से बचें क्योंकि यह आंखों को चुभेगा.
  3. सफेद: जब बात आध्यात्मिक जगह बनाने और पूजा घर के लिए सर्वश्रेष्ठ चुनाव की आती है तो सफेद रंग से बेहतर कुछ नहीं. यह रंग पवित्रता और साफ-सफाई को दर्शाता है. अगर आपका मंदिर मार्बल का है तो सफेद या न्यूनतम धारियों वाले ऑफ वाइट वेरिएंट को चुनें.

 

पूजा घर की फ्लोरिंग

पूजा घर की फ्लोरिंग के लिए प्राकृतिक पत्थर जैसे भारतीय मकराना, सफेद मार्बल सबसे शानदार मटीरियल हैं. पोर्सिलेन और विट्रिफाइड टाइल्स, लकड़ी और मार्बल जैसी दिखने वाली टाइलों जैसी फ़्लोरिंग सामग्री की देखभाल करना आसान है. ट्रेडिशनल टच देने के लिए कोई भी शख्स विभिन्न प्रकार की टाइलों में से चुन सकता है, जिसमें मोटिफ्स हों. फूलों और जियोमेट्रिक पैटर्न में रंगोली डिजाइन के साथ टाइलें भी हासिल की जा सकती हैं, जिनका इस्तेमाल मंदिर के एरिया के पास किया जा सकता है. हल्के, सुखदायक रंगों में फर्श का चुनाव करें और जिसे साफ करना आसान हो. पूजा या ध्यान करते समय फर्श पर एक छोटा सा गलीचा या चटाई बिछाएं.

 

पूजाघर में मूर्तियां रखने के टिप्स

  • मूर्तियां पूर्व या पश्चिम दिशा की ओर रखें. कभी भी उत्तर या दक्षिण की ओर न रखें.
  • वास्तु शास्त्र में कहा गया है कि कोई भी विभिन्न देवी-देवताओं की मूर्तियां रख सकता है, लेकिन एक ही देवता की एक से अधिक मूर्तियां रखने से बचें.
  • कभी भी भगवानों की मूर्तियों को उत्तर या दक्षिण दीवार पर न टांगें.
  • जिन मूर्तियों की ऊंचाई तीन इंच से ज्यादा है, उन्हें रखने से बचें.
  • मूर्तियों को ऐसे रखें कि वो एक दूसरे को न देखें.
  • टूटी हुई मूर्तियों को हटा दें.
  • मूर्तियों और तस्वीरों को लकड़ी की सतह पर रखें. मूर्तियों को रखने के लिए रंगीन चौकियों या सजावटी छोटे झूलों का विकल्प चुनें.
  • भगवानों की मूर्तियों के साथ पूर्वजों की तस्वीरें न रखें.
  • पूजाघर में कभी भी कीमती चीजें न रखें.
  • पूजाघर हमेशा ग्राउंड फ्लोर पर होना चाहिए न कि बेसमेंट या फिर पहले फ्लोर पर.

 

पूजा घर को सजाने के टिप्स

  • बहुत अधिक तस्वीरें या मूर्तियां रखकर इसे अव्यवस्थित करने से बचें, क्योंकि यह दृश्य व्याकुलता पैदा करेगा और क्षेत्र में शांति नहीं आने देगा.
  • इस जगह में ऊर्जा को संतुलित करने के लिए कोमल तत्वों का इस्तेमाल करें, जैसे दरवाजे पर सजावटी धातु के रूपांकनों या दीवार के एक छोटे से हिस्से पर मिटैलिक पेंट.
  • छोटे पूजा घरों के लिए मार्बल बेहद अच्छा मटीरियल है क्योंकि इससे बेहद खूबसूरत फ्लोर पर रखे जाने वाला मंदिर बन सकता है.
  • कांच में भी आपको पूजा घर के लिए डिजाइन्स मिल जाएंगे. इसे या तो पूजा घर के दरवाजे पर इस्तेमाल किया जा सकता है या फिर उस शेल्फ के लिए, जिसमें मूर्तियां रखी जाएंगी. एरिया को और स्टाइलिश बनाने के लिए आप रंगीन कांच का भी इस्तेमाल कर सकते हैं.
  • पूजा घर को सजाने के लिए दीवारों की सुविधा के लिए बैकलिट पैनल एक बेहतरीन विकल्प हैं. आप ऐसे पैनलों को मनमुताबिक डिजाइन करा सकते हैं. इसमें आप पवित्र चिह्न और देवी-देवताओं के पवित्र छंद भी बनवा सकते हैं.
  • पूजा घर में थोड़ी प्राइवेसी के लिए आप कोई सजावटी आवरण या जाली लगवा सकते हैं क्योंकि इससे प्राकृतिक रोशनी को फर्क नहीं पड़ेगा और एरिया भी पवित्र नजर आएगा. यह उस जगह को एक अद्भुत रूप भी देगा.
  • जब बात लाइटिंग की आती है तो फोकस या स्पॉटलाइट्स का इस्तेमाल करने से बचें. एंबिएंट लाइट का इस्तेमाल करें. यह बहुत ज्यादा चमक जोड़े बिना फोकल पॉइंट्स को भी बढ़ा देगा.
  • इस एरिया को पीतल की वस्तुओं जैसे लैंप, घंटियों और बर्तनों से सजाएं. ये सामान आसानी से घर की समग्र शैली के साथ मिल जाते हैं.
  • पूजा घर में मूर्तियों के नीचे लाल कपड़ा, घंटी, पानी से भरा कलश, दाहिने हाथ का शंख और श्री यंत्र रखना शुभ होता है.

 

पूजा घर को सजाने के ट्रेंडिंग आइडियाज

  • यूं तो पूजा घर को सजाने के विभिन्न तरीके हैं. लेकिन आप पुराने जमाने के तरीकों का भी उपयोग कर सकते हैं जैसे प्राचीन काल के मंदिर जैसा आकर्षण लेकर आएं, जिसमें तराशे हुए स्तंभ, खुरदरे फर्श और बड़ी आकार की मूर्तियां हों. आप छत के साथ भी एक्सपेरिमेंट कर सकते हैं और कुछ खूबसूरत डिजाइन्स लगवा सकते हैं. इस जगह में और गहराई लाने के लिए परछाई और पैटर्न डालने वाली पेंडेंट लाइटिंग का प्रयोग करें.
  • मंदिर के इंटीरियर्स के लिए मार्बल सबसे ज्यादा उपयोग होने वाला मटीरियल है. आप संगमरमर के नक्काशीदार पैनलों का इस्तेमाल कर सकते हैं और इसे दीवारों और गेट के चारों ओर लगा सकते हैं. हालांकि यह काम सस्ता नहीं है, लेकिन परिणाम आश्चर्यजनक हो सकते हैं.
  • मंदिर को और आकर्षक बनाने के लिए बैकलाइट्स भी एक शानदार रास्ता है. आप कमरे को और बड़ा दिखाने के लिए छत पर शीशों का उपयोग कर सकते हैं. इसके अलावा, आप बड़ी चांदी की मूर्तियों और एक्सेसरीज का उपयोग कर सकते हैं.
  • पूजा घर की दीवार को संस्कृत में ‘श्लोक’ या मंत्र की आर्टिस्टिक कलिग्रफी से सजाएं. एक आध्यात्मिक आभा बनाने के लिए, दीवार पर मंत्रों को उकेरा जा सकता है या फिर मंत्र के स्टिकर भी चिपकाए जा सकते हैं. एक दिव्य स्पर्श के लिए देवताओं की उभरा छवियों या धार्मिक प्रतीकों की छवियों के साथ सिरेमिक टाइलों का इस्तेमाल करें. पूजा घर के बैकग्राउंड के तौर पर सूर्य देवता, ओम, स्वास्तिक, मोर आदि की तस्वीरों वाले वॉलपेपर का इस्तेमाल किया जा सकता है.

 

पूजा घर को रोशन करने के आइडियाज

फेयरी लाइट्स

यह ऐसे घरों के लिए अच्छी हैं, जहां अलग से पूजा घर हैं. आप फेयरी लाइट्स स्ट्रिंग्स एंट्रेंस पर लगा सकते हैं. इससे शानदार वातावरण बनेगा और आप पूजाघर में ध्यान लगा पाएंगे.

एक्सेंट लाइट्स

यह किसी भी छोटे से पूजा घर में आसानी से लगाई जा सकती हैं. चमकदार प्रभाव के लिए आप देवी-देवताओं की मूर्ति के पास मंद और सूक्ष्म रंगों की फोकस रोशनी रख सकते हैं.

फॉल्स सीलिंग लाइट्स

जहां आपने देवी-देवताओं की मूर्तियां रखी हैं, उस जगह में आप चारों ओर फॉल्स सीलिंग पैनल लाइट्स लगा सकते हैं. ये पैनल्स छुपे हुए होंगे और बल्ब दिखाई नहीं देंगे. मूर्तियां और तस्वीरें स्पॉटलाइट में आ जाएंगे और पूरी जगह को एक अलग लुक मिलेगा.

पेंडेंट लाइट्स

चूंकि पूजा घर में सीलिंग फैन्स का उपयोग बहुत कम ही किया जाता है. इसलिए आप कमरे को और जगमगाने के लिए एक सिंगल पेंडेंट लाइट्स का इस्तेमाल कर सकते हैं. इससे उस जगह नयापन का अहसास होगा.

पैटर्न लाइट्स

आप ऐसी लाइट्स का भी उपयोग कर सकते हैं जो सीलिंग पर दिलचस्प पैटर्न बनाए.  इसकी शानदार परछाई आपके कमरे को न सिर्फ बेहतरीन बनाएगी बल्कि उसी वक्त जगमगाएगी भी.

 

पूछे जाने वाले प्रश्न

कैसे मैं अपना पूजा घर सजा सकता हूं?

अपने पूजा घर को सजाने के लिए पौधों, रोशनी, फूलों और सुंदर पर्दों का इस्तेमाल करें.

कैसे मैं अपना पूजा घर साफ रख सकता हूं?

अपने पूजा घर को हमेशा खाली रखें. कमरे से सूखे पत्ते, फूल और इस्तेमाल की हुई माचिस को दैनिक आधार पर निकालते रहें. लकड़ी के मंदिर को साफ करने के लिए जैतून के तेल में डूबी हुई रुई का इस्तेमाल करें.

क्या पूजा के मंदिर का मुख दक्षिण की ओर हो सकता है?

पूजा मंदिर का मुख या तो पूर्व या फिर उत्तर की ओर होना चाहिए.

मकान में पूजा घर कहां होना चाहिए?

वास्तु शास्त्र के मुताबिक, पूजा घर की जगह उत्तर पूर्व दिशा में होनी चाहिए.

मेरे पूजा घर में बेहतरीन खुशबू कैसे आ सकती है?

चमेली, गुलाब या चंदन की खुशबू की हल्की अगरबत्ती या डिफ्यूजर में कपूर का इस्तेमाल करें.

(पूर्णिमा गोस्वामी शर्मा के इनपुट्स के साथ)

 

Was this article useful?
  • 😃 (1)
  • 😐 (0)
  • 😔 (0)

Comments

comments

Comments 0