अक्षय तृतीया पर घर लेने की सोच रहे हैं तो इन तीन पहलुओं पर गौर फरमा लें


क्या आपको अक्षय तृतीया पर घर खरीदना चाहिए? हम आपको इस सवाल का जवाब तीन स्टेप्स ABC के जरिए देंगे।
अक्षय तृतीया के मौके पर लोग सबसे फायदेमंद संपत्तियों में निवेश करते हैं। लंबे समय से रियल एस्टेट शानदार रिटर्न्स दे रहा है। अक्षय तृतीया को घर खरीदने के लिए एक शुभ दिन माना जाता है, जिसे निवेश परिसंपत्ति के रूप में माना जा सकता है।

आइए आपको घर खरीदने की ABC बताते हैं:

A- अफोर्डेबिलिटी: घर खऱीददारों को एेसी प्रॉपर्टीज खरीदनी चाहिए जिसे वे अफोर्ड कर सकें और जो अॉफर्स और डिस्काउंट्स पर आधारित न हो।
B- बेसिक स्टेप्स: त्योहार साल में एक बार आते हैं। अगर कोई उस वक्त तक डील फाइनल कर पाता तो अगली बार करने का चांस हमेशा है। घर खरीददारों को बेसिक स्टेप्स पर ध्यान देना चाहिए और केवल भावनाओं में बहकर घर न चुनें।
C- कॉस्ट टू बेनिफिट एनालिसिस: कई बार बिल्डर्स  गलत प्रस्तुतिकरण के जरिए डिस्काउंट और अॉफर्स दिखाते हैं और दूसरी ओर अन्य तरीकों से अतिरिक्त पैसा मांगते हैं। घर खरीददारों को असली त्योहारी फायदों की समीक्षा करनी चाहिए। उन्हें तुलना करनी चाहिए कि त्योहार से पहले प्रॉपर्टी की क्या कीमत थी। इसके बाद ही कोई फैसला करना चाहिए।
रवि ग्रुप के डायरेक्टर गौरव शाह ने बताया, ”अक्षय तृतीया के लिए माना जाता है कि इस दिन जो भी काम किया जाएगा, उसमें बढ़ोतरी ही होगी। इस दिन को नए काम की शुरुआत या नई प्रॉपर्टी खरीदने के लिए शुभ माना जाता है”। पहली बार घर खरीदने वाले अपनी संपत्तियों के साथ भावनात्मक तौर पर जुड़े होते हैं, क्योंकि दूसरों की तुलना में उनके लिए यह पहला फैसला होता है। शाह बताते हैं कि इस वजह से त्योहारी मौसम में वे प्रॉपर्टी खरीदने के लिए ज्यादा उत्सुक रहते हैं। जियोप्रेन्योर ग्रुप के मैनेजिंग डायरेक्टर रोहन अग्रवाल ने त्योहारी सीजन में घर खरीदने की ABC की अहमियत बताई।

अफोर्डेबिलिटी:

अग्रवाल के मुताबिक अक्षय तृतीया के मौके पर डिस्काउंट्स और अन्य स्कीमें दी जाती हैं, लिहाजा संपत्ति को और ज्यादा किफायती बनाने के लिए खरीददार इन स्कीम्स का फायदा उठाकर पैसा बचा सकते हैं।

बेसिक स्टेप्स:

शाह ने बताया कि बिल्डर द्वारा दिेए गए डिस्काउंट के अलावा ग्राहक को प्रोजेक्ट अप्रूवल, प्रॉपर्टी टाइटल, बिल्डर का बैकग्राउंड, उसके पुराने प्रोजेक्ट्स, डिलिवरी टाइम, कंस्ट्रक्शन की क्वॉलिटी और सुविधाओं की जांच करनी चाहिए। साथ ही इन सभी की तुलना अन्य प्रॉपर्टीज के साथ करनी चाहिए। ग्राहक को प्रॉपर्टी के इलाके और पहुंच का मूल्यांकन भी करना चाहिए।

कॉस्ट टू बेनिफिट एनालिसिस:

कीमतों में सुधार और आरबीआई द्वारा घटाए गए रेट्स के कारण होम लोन्स किफायती हो गए हैं। अग्रवाल ने कहा कि ग्राहकों को अक्षय तृतीया के मौके पर आगे के बारे में जरूर सोचना चाहिए। उन्होंने कहा, रियल एस्टेट रेग्युलेटरी अथॉरिटी आने के बाद इंडस्ट्री पर और ज्यादा सख्ती लागू हो गई है। इससे सप्लाई में 40-50 प्रतिशत की गिरावट आएगी और साल के आखिरी में कीमतों में उछाल आएगा।
खरीददारी का इरादा चाहे कभी भी हो लेकिन विशेषज्ञ इस बात पर जोर देते हैं कि ग्राहकों को प्रॉपर्टी से जुड़े सभी कानूनी पहलुओं की जांच कर लेनी चाहिए और क्या उनका ठीक से पालन किया गया है इस पर भी अमल करना चाहिए। इसके अलावा ग्राहकों को विभिन्न एजेंट्स द्वारा प्रस्तावित अॉफर्स की भी समीक्षा करनी चाहिए, ताकि मालूम चले कि उनके लिए क्या सही है और वह कैसे लागत को कम कर सकते हैं।
Was this article useful?
  • 😃 (0)
  • 😐 (0)
  • 😔 (0)

Comments

comments