वास्तु के मुताबिक अपने घर के लिए चुनें सही रंग, खुल जाएगी किस्मत


घर में रंगों का उसमें रहने वालों पर खासा असर पड़ता है। हम एक्सपर्ट्स की राय पर आपके घर के विभिन्न कमरों के लिए सही रंग बताने जा रहे हैं।

यह बात साबित हो चुकी है कि रंग लोगों पर मनोवैज्ञानिक प्रभाव डालते हैं। घर एक एेसी जगह है, जहां लोग अपनी जिंदगी का एक बड़ा हिस्सा बिताते हैं। कुछ खास रंग लोगों में खास इमोशन पैदा करते हैं, इसलिए घर में रंगों का संतुलन बनाना बहुत जरूरी है, ताकि आप एक ताजा और स्वस्थ जीवन जी सकें। आइए आपको वास्तु के मुताबिक दीवार के लिए रंगों को चुनने का पूरा तरीका बताते हैं. साथ ही यह भी बताएंगे कि इन रंगों को चुनते वक्त आपको किन बातों का ध्यान रखना चाहिए.

 

वास्तु के अनुसार आपके घर के लिए दीवारों का रंग

 

दिशाओं के मुताबिक आपके घर के रंग

A2Zवास्तु डॉट कॉम के संस्थापक और सीईओ विकाश सेठी ने कहा कि रंग दिशाओं और घर के मालिक की जन्मतिथि के मुताबिक तय किए जाने चाहिए। चूंकि हर दिशा का अपना एक खास रंग होता है, इसलिए हो सकता है, यह घर के मालिक से मेल न खाए। इसके लिए घर के मालिकों को वास्तु शास्त्र में लिखी बुनियादी गाइडलाइंस का पालन करना चाहिए।

 

दिशामुफीद रंग
नॉर्थ-ईस्टहल्का नीला
पूर्वसफेद या हल्का नीला
दक्षिण-पूर्वयह दिशा आग से जुड़ी है। इसलिए संतरी, गुलाबी या सिल्वर रंग ऊर्जा को बढ़ाने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है
उत्तरहरा और पिस्ता ग्रीन
उत्तर-पश्चिमयह दिशा हवा से जुड़ी है। इसलिए सफेद, हल्का ग्रे और क्रीम रंग इसके लिए परफेक्ट है
पश्चिमयह जगह ‘वरुण’ (जल) की है, इसलिए नीला और सफेद सर्वश्रेष्ठ है
दक्षिण-पश्चिमआड़ू रंग, गीली मिट्टी का रंग, बिस्किट कलर और लाइट ब्राउन कलर
दक्षिणलाल और पीला

सेठी ने कहा कि घर के मालिकों को काला, लाल और पिंक रंग चुनने से पहले अतिरिक्त सावधानी बरतनी चाहिए, क्योंकि ये रंग हर किसी को सूट नहीं करते।

 

क्षेत्रवार तरीके से आपके घर के लिए सर्वोत्तम रंगों पर नज़र

How to choose the right colours for your home, based on Vastu

 

किस कमरे में हो कौन सा रंग

विशेषज्ञों का कहना है कि आपके घर के हर कमरे में ऊर्जा, आकार और दिशा के मुताबिक रंगों की जरूरत होती है. आपके होम सेक्शन की रंग आवश्यकता उसके उपयोग के अनुसार होनी चाहिए. एस्ट्रोन्यूमरोलॉजिस्ट गौरव मित्तल ने कहा, ”घर में रहने वाले लोगों को कमरों के रंग चुनते वक्त इन बातों का ध्यान रखना चाहिए”.

मास्टर बेडरूम: मास्टर बेडरूम दक्षिण-पश्चिम दिशा में होना चाहिए और इसलिए इसमें नीला रंग करवाना चाहिए।  बेडरूम आराम करने की जगह है. इसलिए यह जरूरी है कि इस जगह में सकारात्मक प्रभामंडल हो. इसलिए बेहतर यही है कि इस जगह को आप सुखदायक टोन वाले हल्के और ठंडे रंगों से रंगें. वास्तु के मुताबिक, नीले रंग के फर्नीचर और दरवाजे के साथ ऑल वाइट कलर पैटर्न इस जगह के लिए सबसे मुफीद रहेगा. इसके अलावा, बेडरूम में कोई भी लाइट या पेस्टल शेड काम कर सकता है. भारी और गहरे रंगों से बचें क्योंकि इससे जगह में उदासी का अहसास हो सकता है.

गेस्ट रूम/ड्राइंग रूम: घर में आए रिश्तेदारों के लिए गेस्ट रूम/ड्राइंग रूम उत्तर-पश्चिम दिशा में होना चाहिए। इसलिए इस दिशा में अगर गेस्ट रूम है तो उसमें सफेद रंग होना चाहिए।

यह भी देखें: वास्तु दोष जिन्हें आपको घर खरीदते समय नज़रअंदाज़ नहीं करना चाहिए

बच्चों का कमरा: उत्तर-पश्चिम उन बच्चों के लिए सर्वश्रेष्ठ दिशा है, जो बड़े हो गए हैं और पढ़ाई करने के लिए बाहर जाते हैं। चूंकि उत्तर-पश्चिम दिशा पर चंद्रमा का राज है, इसलिए इस दिशा में स्थित बच्चों के कमरे में सफेद रंग कराना चाहिए।

किचन: दक्षिण-पूर्व दिशा किचन के लिए बेस्ट है, इसलिए किचन की दीवारों का रंग संतरी या लाल होना चाहिए. किचन आग का प्रतिनिधित्व करता है. लिहाजा गहरे रंग अच्छे रहेंगे. आप पीला रंग चुन सकते हैं. गहरे रंग जैसे गुलाबी मोहब्बत और गर्मजोशी को दर्शाते हैं जबकि भूरा रंग भी किचन के लिए मुफीद है क्योंकि यह संतुष्टि को दर्शाता है. अगर किचन कैबिनेट्स हैं तो लेमन यलो, संतरी रंग अच्छे रहेंगे क्योंकि ये ताजगी, स्वास्थ्य और सकारात्मकता को दिखाते हैं. फर्श के लिए, मोज़ेक, संगमरमर या सिरेमिक टाइलें चुनें. हल्के रंग – बेज, सफेद या हल्का भूरा फर्श के लिए अच्छे होते हैं. वास्तु की सिफारिशों के अनुसार, रसोई के स्लैब प्राकृतिक रूप से उपलब्ध पत्थरों में सबसे अच्छे हैं, जिनमें ग्रेनाइट या क्वार्ट्ज शामिल हैं. नारंगी, पीले और हरे रंग रसोई के काउंटरटॉप्स के लिए अच्छा काम करते हैं.

बाथरूम: उत्तर-पश्चिम दिशा बाथरूम के लिए सबसे सही है और इसमें सफेद रंग होना चाहिए।

हॉल: आदर्श तौर पर हॉल नॉर्थ-ईस्ट या नॉर्थ वेस्ट दिशा में होना चाहिए और इसमें पीला या सफेद रंग करवाना चाहिए।

घर के बाहर का रंग: घर के बाहर का रंग मालिकों के मुताबिक होना चाहिए। श्वेत-पीला, अॉफ वाइट, हल्का गुलाबी या संतरी रंग सभी राशि के लोगों के लिए अच्छा होता है।

पूजा घर: वास्तु शास्त्र के मुताबिक, पूजा घर का मुंह नॉर्थ ईस्ट की दिशा में होना चाहिए, ताकि सूर्य के अधिकतम प्रकाश का दोहन किया जा सके. पीला आपके घर के इस हिस्से के लिए सबसे उपयुक्त रंग है, क्योंकि इससे इस प्रक्रिया में आसानी होगी. इस जगह को अपने घर का शांत क्षेत्र बनाने के लिए आपको इस क्षेत्र में गहरे रंगों से भी बचना चाहिए।

मेन डोर/एंट्रेंस: फ्रंट डोर के लिए सॉफ्ट कलर्स का इस्तेमाल करें, जैसे वाइट, सिल्वर या वुड कलर. वास्तु के मुताबिक, गहरे रंग जैसे काला, लाल और गहरे नीले का इस्तेमाल न करें. ध्यान रहे कि मेन एंट्रेंस हमेशा घड़ी के घूमने की दिशा और अंदर की ओर खुलने चाहिए.

स्टडी रूम: अगर आपका ऑफिस-होम है तो वास्तु के मुताबिक ग्रीन, ब्लू, क्रीम और वाइट जैसे रंगों का इस्तेमाल करें. लाइट कलर्स से कमरा बड़ा सा लगता है. गहरे रंगों से बचें क्योंकि इससे जगह में उदासीनता बढ़ती है. आपके होम ऑफिस के लिए सोने, पीले, भूरे और हरे रंग के हल्के रंग, एक स्थिर कामकाजी माहौल सुनिश्चित करते हैं और उत्पादकता बढ़ाते हैं.

बालकनी/बरामदा: वास्तु के मुताबिक, बालकनी नॉर्थ या ईस्ट डायरेक्शन में होनी चाहिए. बालकनी में ब्लू, क्रीम और ग्रीन व पिंक के हल्के शेड्स कराएं. यही वो जगह होती है, जहां से लोग बाहरी दुनिया से कनेक्ट होते हैं. इसलिए गहरे रंगों से बचना चाहिए.

गैरेज: वास्तु के मुताबिक, गैरेज नॉर्थ वेस्ट दिशा में होना चाहिए. इसमें आप सफेद, पीला, ब्लू या कोई और लाइट शेड करा सकते हैं.

 

कमरावास्तु के मुताबिक रंगवास्तु के मुताबिक रंग
मास्टर बेडरूमनीलालाल के गहरे शेड्स
गेस्ट रूमसफेदलाल के गहरे शेड्स
ड्राइंग रूम/लिविंग रूमसफेदगहरे रंग
डाइनिंग रूमग्रीन, ब्लू और यलोग्रे
सीलिंगवाइट या फिर ऑफ वाइटब्लैक और ग्रे
किड्स रूमसफेद
गहरा नीला और लाल
किचनसंतरी या लाल
डार्क ग्रे, ब्लू, ब्राउन और ब्लैक
बाथरूमसफेद
किसी भी रंग का गहरा शेड
हॉलपीला या सफेद
डीप शेड में कोई भी रंग
पूजा घरपीलालाल
घर का बाहरी हिस्सापीले-सफेद, ऑफ-व्हाइट, हल्का मौवेकाला
मेन डोर/एंट्रेंससफेद, सिल्वर या लकड़ी का रंगलाल और डीप यलो
स्टडी रूमहल्का हरा, नीला, क्रीम या सफेदब्राउन और ग्रे
बालकनी/बरामदानीला, क्रीम, गुलाबी और हरे रंग के हल्के शेड्सग्रे, ब्लैक
गैरेजसफेद, पीला, नीलाब्लैक, ब्राउन

 

दीवार के वो रंग जो सकारात्मक ऊर्जा को पैदा करते हैं

अगर आप ऐसे दीवार के रंग ढूंढ रहे हैं, वो घर में सकारात्मकता लाते हैं, वो इन कलर पैलेट को चुन सकते हैं.

पीला

पीला रंग संचार, आत्म-सम्मान और शक्ति से जुड़ा होता है.

बैंगनी

बैंगनी स्थिरता के लिए एक शानदार वातावरण बनाता है. आरामदायक और सुकून भरी नींद के लिए आप लैवेंडर जैसे हल्के रंगों का चुनाव कर सकते हैं.

हरा

हरा रंग तनाव को शांत करता है। यह लकड़ी के तत्व से भी जुड़ा है और इसमें तनाव और डिप्रेशन को दूर करने के गुण हैं.

 

घर में भूलकर भी न कराएं ये रंग

एक्सपर्ट्स के मुताबिक लाइट रंग हमेशा अच्छे होते हैं। डार्क रंग जैसे लाल, ब्राउन, ग्रे और काला हर किसी को सूट नहीं आता। ये रंग अग्नि ग्रहों जैसे राहू, शनि, मंगल और सूर्य का प्रतिनिधित्व करते हैं। सेठी के मुताबिक लाल, गहरा पीला और काले रंग से परहेज करना चाहिए। आमतौर पर इन रंगों की तीव्रता काफी ज्यादा होती है। ये रंग आपके घर के एनर्जी पैटर्न को डिस्टर्ब कर सकते हैं।

हालांकि अगर आपको लगता है कि घर में उत्साह और गर्मजोशी की कमी है तो आप घर के कुछ कोनों में लाल रंग करा सकते हैं.

  • बेडरूम के लिए लाल का अत्यधिक इस्तेमाल आग की ऊर्जा का प्रतिनिधित्व करता है और इससे स्वभाव में गुस्सा पैदा हो सकता है.
  • वास्तु के मुताबिक, घर के मालिकों को जरूरत से ज्यादा सफेद रंग नहीं कराना चाहिए क्योंकि यह अहंकार को बढ़ाता है.
  • कार पार्किंग एरिया और गैरेज में घर के मालिकों को गहरे रंग नहीं कराने चाहिए.

 

वास्तु के मुताबिक कैसे हों परदों के रंग

वास्तु के मुताबिक, यह केवल दीवारों के रंग ही नहीं बल्कि कमरे में मौजूद सारे रंग हमें प्रभावित करते हैं. परदों के मुफीद रंग भी कमरे को सुकूनभरा बनाते हैं. आप ऑफ वाइट, वाइट, रोजी रेड इत्यादि रंग परदों के लिए चुन सकते हैं. ये रंग शांति और आराम से जुड़े होते हैं, जो बेडरूम के लिए शानदार माने जाते हैं. बेडरूम में काले रंग के परदे ना लगाएं.

वास्तु के मुताबिक, लिविंग रूम के परदे आप पीले, हरे और नीले में चुन सकते हैं जबकि डाइनिंग रूम के लिए ग्रीन, पिंक और ब्लू रंग अच्छे रहेंगे. हरा रंग उम्मीद का प्रतीक है और सद्भाव और सेहत का प्रतिनिधित्व करता है. नीला रंग नई शुरुआत को दर्शाता है तो वहीं पिंक प्यार को. बाथरूम के परदे ग्रे, पिंक, वाइट और ब्लैक का मिश्रण हो सकते हैं.

  • उत्तरमुखी कमरों में परदे हल्के हरे रंग के होने चाहिए.
  • वास्तु के अनुसार उत्तर-पश्चिम की ओर मुंह वाले कमरों में सफेद रंग के परदे होने चाहिए.
  • पश्चिममुखी कमरों में ग्रे रंग के परदे होने चाहिए.
  • दक्षिण-पूर्व की ओर मुंह वाले कमरों में लाल या गुलाबी रंग के परदे होने चाहिए.
  • उत्तर-पूर्व की ओर मुंह वाले कमरों में पीले रंग के परदे होने चाहिए.

 

वास्तु के मुताबिक कैसी हो फ्लोरिंग

वास्तु के अनुसार फर्श का रंग हल्का, पीला और तटस्थ रंगों में होना चाहिए. सफेद संगमरमर या ग्रेनाइट उपयुक्त हैं, क्योंकि वे शांतिपूर्ण वातावरण को बढ़ाते हैं. लकड़ी के फर्श का उपयोग घर के उत्तर, उत्तर-पूर्व या पूर्व दिशा में भी किया जा सकता है. इसके अलावा, उत्तर-पूर्व दिशा में, फर्श के लिए नीले रंग के शेड का इस्तेमाल किया जा सकता है. किचन में ब्लैक फ्लोरिंग से बचें. हालांकि, दक्षिण-पूर्व दिशा में लाल या गुलाबी रंग का फर्श रखना सही है. दक्षिण-पश्चिम दिशा के कमरों में फर्श पीले रंग का होना चाहिए.

 

वास्तु के मुताबिक रंगों का महत्व

रंगप्रतिनिधित्व
लालउत्साह, ताकत, भावनाएं और गर्मजोशी
नीलासौंदर्य, संतोष, भक्ति, सत्य
हराप्रगति, सेहतबक्श, उपजाऊ, समृद्धि
सफेदपवित्रता, खुलापन, निर्दोष, लग्जरी
पीलाआशावाद, खुलापन, अध्ययन, बुद्धिमत्ता
नारंगीदृढ़ संकल्प, लक्ष्य, अच्छा स्वास्थ्य, आराम
भूरास्थिरता, संतुष्टि, आराम
पर्पलऐश्वर्य, लग्जरी, अनुग्रह, अभिमान

यह भी देखें: क्या आपको अपूर्ण वास्तु के कारण अच्छी संपत्ति को छोड़ देना चाहिए?

 

दीवारों के रंगों के लिए वास्तु टिप्स

  • ऐसे रंग चुनें जो आपके अनुरूप ग्रह या लकी नंबर से संबंधित हो. बेडरूम के लिए रंग चुनते वक्त किसी न्यूमरोलॉजिस्ट से सलाह ले लें.
  • उत्तर दिशा के लिए ग्रीन एक पसंदीदा रंग है क्योंकि इस पर बुध ग्रह का शासन है. उत्तर पूर्व दिशा पर बृहस्पति ग्रह का शासन है लिहाजा इस दिशा की दीवारों के लिए पीला रंग बेहतर है.
  • चूंकि पूर्व दिशा सूर्य की है इसलिए हमेशा इस दिशा में नारंगी रंग कराएं. इसी तरह दक्षिण-पूर्व दिशा के लिए लाल रंग बेहतरीन है.
  • पश्चिम दिशा शनि की है इसलिए इस कोने के लिए ग्रे कलर सही रहेगा.

 

पूछे जाने वाले सवाल (FAQs)

घर के लिए कौन सा रंग शुभ है?

रंगों का चयन दिशाओं और मकानमालिक की जन्मतिथि के मुताबिक होना चाहिए. पीला, सफेद, ऑफ वाइट, हल्का गुलाबी या नारंगी रंग सभी राशियों के लोगों को सूट करता है.

ड्राइंग रूम के लिए कौन सा रंग सबसे अच्छा है?

नॉर्थ वेस्ट गेस्ट रूम/ड्राइंग रूम के लिए नॉर्थ वेस्ट सबसे अच्छी जगह है. लिहाजा इस दिशा में गेस्ट रूम में वाइट कलर से पेंट कराना चाहिए.

बच्चों के कमरे के लिए कौन सा रंग सबसे अच्छा है?

उत्तर-पश्चिम उन बच्चों के कमरे के लिए सबसे अच्छी जगह है जो बड़े हो गए हैं और पढ़ने के मकसद से बाहर जाते हैं. चूंकि उत्तर-पश्चिम चंद्रमा की दिशा है, इसलिए, इस दिशा में बच्चों के कमरे को सफेद रंग से रंगा जाना चाहिए.

रसोई के लिए कौन सा रंग सबसे अच्छा है?

दक्षिण-पूर्व क्षेत्र रसोई के लिए सबसे अच्छा है और इसलिए, रसोई की दीवारों को नारंगी या लाल रंग से पेंट कराना चाहिए.

पूर्व दिशा के लिए कौन सा रंग सबसे अच्छा है?

पूर्व दिशा में घरों के लिए सफेद या हल्का नीला रंग सबसे अच्छा है.

बेडरूम के लिए कौन सा रंग भाग्यशाली होता है?

मास्टर बेडरूम दक्षिण-पश्चिम दिशा में होना चाहिए और इसलिए, इसमें नीला रंग कराना चाहिए.

(पूर्णिमा गोस्वामी शर्मा, सुरभि गुप्ता और स्नेहा शेरोन मैमन के इनपुट्स के साथ)

 

Was this article useful?
  • 😃 (21)
  • 😐 (7)
  • 😔 (12)

Comments

comments